हमराही

सुस्वागतम ! अपना बहुमूल्य समय निकाल कर अपनी राय अवश्य रखें पक्ष में या विपक्ष में ,धन्यवाद !!!!

Sunday, July 9, 2017

गुरु पूर्णिमा (दोहे)

गुरु पूर्णिमा 9 जुलाई, 2017
शुक्ल पक्ष आषाढ़ का,गुरु पूजा दिन खास।
लाई है गुरु पूर्णिमा,श्रद्धा और विश्वास।।

देकर गुरु को दक्षिणा,सदा निभाओ प्रीत।
जीवन के गुर जान कर, बनना सच्चे मीत।।

नमन करो हर रोज ही,जो गुरु मानो आप।
गुरु की महिमा जान लो ,गुरु दूजे माँ,बाप।।

जन्म दिया माँ बाप ने, देकर शुभ संस्कार।
गुरु सँवारता ज्ञान से,  देकर उच्च विचार।।

नमन करें गुरु आपको, देना आशीर्वाद।
ज्ञान,मान, सम्मान पा, ह्रदय खिले आह्लाद।।

मम हार्दिक शुभकामना, करो आप स्वीकार।
आई
    ........ सरिता यश भाटिया ..........

Sunday, July 2, 2017

बेटी,बेटा, बहू (दोहावली)

किया बुढ़ापे के लिये, सुत लाठी तैयार।
बहू उसे लेकर गई, बूढ़े ताकें द्वार।।

बहू किसी की है सुता, भूले क्यों संसार।
गेह पराये आ गई ,करो उसे स्वीकार।।

किया बुढ़ापे के लिये, बेटा सदा निवेश।
पर धन बेटी साथ दे , बेटा गया विदेश।।

बहू अगर माँ मान ले ,बोझ लगे ना सास।
घुलमिल ही परिवार में ,रिश्ता बनता खास।।

सुघड़ बनें रिश्ते सदा, तभी समझ लो आप।
सास ससुर को जब बहू  ,समझेगी माँ बाप।।

बेटी दो घर जोड़ती, बेटी है संस्कार।
बहू बने बेटी अगर, सुखी रहे परिवार।।

आँख खुली इंतज़ार में,लिये मिलन की आस।
वृद्धाश्रम में ले रही ,मात आखिरी श्वास।।
 .. 2जुलाई,2017

Wednesday, June 21, 2017

योग दिवस

उठना जल्दी जागना ,रहना अगर निरोग।
करते रहना रोज ही ,योग योग तुम योग।।

भारत ने जो दे दिया ,सकल विश्व को योग।
अब पीछे चलने लगे, दुनिया भर के लोग।।

सुबह शाम करते अगर, नित्य लग्न से योग।
रहते हैं तब स्वस्थ हम , दूर भागते रोग।।

अपनाओ अब योग को, सब जन देश विदेश।
होगा नव निर्माण औ,सुधरेगा परिवेश।।

विश्वगुरू कहते जिसे, अपना भारत देश।
योग नियम का दे दिया, सबको शुभ संदेश।।
.. 21जून,2017

Wednesday, June 7, 2017

"डोली"


डोली तो उठी थी
दो सुहागनों की
चार चार कंधों पर
फूलों से लदी
लाल जोड़े में सजी
सोलह श्रृंगार किये..

लेकिन
एक विदा हो रही थी
एक अलविदा हो रही थी
...सरिता यश भाटिया...

Sunday, March 12, 2017

चुनावी होली दोहे


सरिता मेरा नाम है ,बढ़ती हूँ निष्काम।
मोदी की जय बोल दो , बोलो जय श्री राम।।
जो गी रा सा रा रा

लाया है होली मिलन, खुशियाँ आज विशेष
अभिनन्दन है भाजपा, शुभकामना अशेष।।
जो गी रा सा रा रा

ख़ुशी हुई है दोगुनी, होली के दिन ख़ास।
अच्छे दिन लो आ गए, बढ़ा आज विश्वास।।
जो गी रा सा रा रा

चूर चूर सबका हुआ , जो था उन्हें घमंड
जीते मोदी भाजपा, यू पी उत्तराखंड।।
जो गी रा सा रा रा

होली खेले भाजपा ,ले केसरिया रंग ।
डूब गये अखिलेश जी, जब राहुल के संग।।
जो गी रा सा रा रा

साईकल छूटी हाथ से ,हाथी भूला चाल ।
बाप बहू बबुआ बुआ, पप्पू है बेहाल ।
जो गी रा सा रा रा

मोदी मोदी की हवा ,मोदी की बौछार।
रंग सजेगा केसरी, होली का त्यौहार।।
जो गी रा सा रा रा

यू पी बेटों का मिलन ,था तूफानी मेल।
साइकल बही तूफान में, पप्पू फिर से फेल।।
जो गी रा सा रा रा

फुस्स हुई है  साईकलें , छूट गया है हाथ।
कमल खिलेगा केसरी, मोदी का ले साथ।।
जो गी रा सा रा रा

नोट बंदी को कर लिया, हँसकर आज कुबूल।
साईकल हाथी बेच सब, कर लो नोट वसूल ।।
जो गी रा सा रा रा

तूफानी बेटे बहे ,अम्मा अब्बा कूल ।
कमल कमल बस कमल ही, खिला कमल का फूल।।
जो गी रा सा रा रा

बादल सारे बह गए, खफा अभी पंजाब।
नशा ड्रग्स को ना कहो ,देकर कमल गुलाब ।।
जो गी रा सा रा रा 

Saturday, December 10, 2016

मेरी हार या मेरी जीत


याद है मुझे वो लम्हा 
जब वो बढ़ चला था 
जिंदगी की पगडंडियों पर 
पाने को अपना अंतिम लक्ष्य 
मैं देख रही थी सुनहरे सपने
उसके साथ जीने के 
मकसद तो एक ही था 
जीवन से मृत्यु का मिलन 
लेकिन
वो बहुत आगे निकल गया
मुझसे बिछुड़कर 
यही था मिलन                                     
जिंदगी की हार
मौत की जीत का
वो जीत गया था जिंदगी को हारकर 
मैं हार गई थी जिंदगी को जीतकर

              ... 9 दिसम्बर,2016
            यश जी की तीसरी पुण्यतिथि पर 

Sunday, October 9, 2016

अभिषेक के जन्मदिवस पर

जन्मदिवस शुभकामना, देता है परिवार।

चाचा, दादा ,माँ ,भुआ ,सभी लुटायें प्यार।।


आई है शुभ अष्टमी ,और जन्मदिन आज ।

रहे सदा ही आपका,हर पल शुभ आगाज|| 


सुनो हमारे लाड़ले ,सुनना देकर ध्यान।

जो करता सबका भला,उसको मिलता मान||


बनो सदा अभिषेक तुम,बनो सदा सम्मान।

रहो सदा परिवार की,शान, बान, अभिमान।।








सबको भाता है सदा, तेरा इस्टाईल।

तेरे सुन्दर बाल यह, तेरी इस्माईल।।


रहे सदा ही स्टाइल यह,रहे सदा अभिमान।

होंठों पर "अभिषेक" रख, सदा मधुर मुस्कान।।




भाई भाई साथ हो ,तो लेते जग जीत |
किस्मत वालों को सदा ,मिलता ऐसा मीत ||


सिर पर रखना हाथ अब, हे नाथों के नाथ |

'सोनी !, लीना ,हर्ष के,हरदम चलना साथ।।


पुलकित गर्वित मानसी, अकुल संग अभिषेक |
आगे ही आगे बढ़ो, रखो इरादे नेक ||
9 अक्तूबर ,2016..