हमराही

सुस्वागतम ! अपना बहुमूल्य समय निकाल कर अपनी राय अवश्य रखें पक्ष में या विपक्ष में ,धन्यवाद !!!!

Thursday, October 5, 2017

शरद पूर्णिमा ( कुंडलिया )

झरती किरणों से सुधा, शरद पूर्णिमा रात।
शरदोत्सव ले आ गया,ऊर्जा की सौगात।।
ऊर्जा की सौगात, शरद चाँद स्वच्छ लाये
रखो रात में खीर , दिव्य औषध बन जाये
सरिता मिटते रोग,शक्ति ,धन, सेहत मिलती।
धवल चाँद,आकाश,सुधा किरणों से झरती ।।


Saturday, September 30, 2017

विजयादशमी (कुंडलिया)

आया उत्सव विजय का,विजयादशमी नाम।
आज दशानन मार कर ,बोलो जय श्री राम।।
बोलो जय श्री राम , हार कर चली बुराई 
महिषासुर को मार,आज जीती अच्छाई 
काम,क्रोध,मद, लोभ,अहम को अगर जलाया।
सरिता उस दिन मान,विजय उत्सव है आया।।

असली रावण मार कर ,मनुज स्वयं को जीत 
वचन निभाओ प्राण दे, लाओ रघुकुल रीत 
लाओ रघुकुल रीत, विजय का पर्व मनाओ
करो विसर्जन पाप ,पुण्य पताका चढ़ाओ
छोड़ो भ्रष्टाचार ,उतार मुखौटा नकली
सरिता पूजो शक्ति  ,दशहरा तब ही असली ।।

Thursday, September 28, 2017

महागौरी माँ ( कुंडलिया )

चम चम अष्टम रूप है, कर लो माँ का ध्यान।
उज्ज्वल मंगलदायिनी ,देती माँ वरदान
देती माँ वरदान ,महागौरी रूप धवल
शिवा,शाम्भवी नाम,गौर वर्ण पूरण नवल 
माँ के हाथ त्रिशूल,बजे है डमरू डम डम 
सरिता छाया ओज,चेहरा चमके चम चम ।।

कालरात्रि माँ ( कुंडलिया )

काली माँ है सातवाँ, दुर्गा जी का रूप।
शुभंकरी फलदायिनी ,इसका रूप अनूप
इसका रूप अनूप, विकट कालरात्रि माई
धनुष ,चक्र,गदा,बाण,केश फैलाकर आई
कृष्णा ,काली और , नाम त्रिनेत्री कराली
गर्दव हुई सवार ,पधारी निर्भय काली।।

कात्यायनी माँ ( कुंडलिया )


ध्याते षष्ठम रूप को ,देती है माँ शक्ति।
कल्याणी कात्यायनी,कर लो माँ की भक्ति।।
कर लो माँ की भक्ति,मनोवांछित है मिलता
एक हाथ तलवार,कमल दूजे में खिलता
मिट जाते संताप ,शरण माँ की जो आते
माँ का स्वर्ण समान, रूप जो सरिता ध्याते।।


स्कन्दमाता माँ ( कुंडलिया )

कहें स्कन्दमाता जिसे,पंचम रूप/दिवस अनूप
कर लो इसकी अर्चना, दिव्य अलौकिक रूप
दिव्य अलौकिक रूप, सदा माँ है सुखदायी
गोद लिए माँ स्कन्द ,चतुर्भुज वह फलदायी
मिले मोक्ष का द्वार ,मनुज मनवांछित पाता
सरिता गौरी रूप,भक्त कहें स्कन्दमाता।।

Monday, September 25, 2017

कूष्मांडा देवी [ कुंडलिया ]



साधक करते साधना ,होते सफल प्रयास।
कूष्मांडा देवी करे, पूर्ण मनुज हर आस।।

पूर्ण मनुज हर आस, करे अष्टभुजा मैया 
होकर सिंह सवार, पार करती माँ नैया 
सरिता माँ के भक्त,नहीं विपदा से डरते 
रोग ,कष्ट से मुक्त,साधना साधक करते ||